Har jagah me

हर मंजर में मैं पाऊं तुम्हे कैसे कहूँ श्याम कितना चाहूं तुम्हें,
बस तुमसे ही हैं ये जिन्दगी मेरी यूं ही कैसे भूल जाऊं तुम्हें।।