Fursat nahi hai

फुरसत नहीं हैं इंसान को,
घर से महाकाल के मंदिर तक जाने की
और ख्वाहिश रखते हैं,
शमशान से सीधा स्वर्ग जाने की।।