Arz meri suno

अर्ज़ मेरी सुनो अंजनी के लाल, काट दो मेरे घोर दुखों का जाल,
तुम हो मारुती-नन्दन, दुःख-भंजन, करूँ मैं आपको दिन रात वन्दन।