राधा कृष्णा का नाम

सिर्फ गुलाब मोहब्बत का
पैगाम नही होता,
चाँद-चांदनी का प्यार
सरेआम नही होता,
प्यार होता है मन की
निर्मल भावना से,
वरना ऐसे ही राधा कृष्णा
का नाम अमर नही होता।