जिसे आज मुजमे हजार एब

जिसे आज मुजमे हजार एब नजर आते हे ,कभी वही लोग हमारी गलती पे भी ताली बजाते थे !