Category: Wafa Shayari


Kisee aur ki baahon mein rehkar

किसी और के बाहों में रहकर,
वो हम से वफा की बात करते हैं…
ये कैसी चाहत हे यारों…?
वो बेवफा हे जानकर भी हम उन्हीं से ही प्यार करते हैं….

Kisee aur ki baahon mein rehkar,
Woh hamse wafa kee baat karte hain..
Ye kaisee chaahat he yaaron…?
Wo bewafa hain jaanakar bhee ham unhi se hee pyaar karte hain..

Dekh ke teree aankhon mein

देख के तेरी आँखों में , पल पल जिया हु में।
तुझे देख किसी के बाहों मे, हर पल मरा हु मैं।
साथ तेरा जब तक था, जिंदगी से वफ़ा मैं करता था।
अब साथ नही जब तेरा , मैं वफ़ा मौत से करता हूँ।

Dekh ke teree aankhon mein , pal pal jiya hu mein.
Tujhe dekh kisee ke baahon me, har pal mara hu main.
Saath tera jab tak tha, jindagee se wafa main karata tha.
Ab saath nahee jab tera , main wafa maut se karata hoon.